Ramadan Eid 2021

रमजान इस्लामी कैलेण्डर का नवां और पवित्र महीना होता है. दुनिया भर के मुसलमान रोजे के इस महीने को बलिदान का महीना मानते हैं. रमजान की शुरूआत चांद देखने के बाद होती है. सऊदी अरब और अन्य मुस्लिम देश चांद दिखने के बाद ही रमजान की सही तिथि की घोषणा करते हैं. चांद दिखने के हिसाब से रमजान का महीना कभी 29 तो कभी 30 दिन का होता है.

बहरीन, मिस्र, कुवैत, ओमान, कतर और संयुक्त अरब अमीरात, ये सभी सऊदी अरब की घोषणा का इंतजार करते हैं. क़तर कैलेंडर हाउस (QCH) ने घोषणा की है कि खगोलविदों के अनुसार रमजान का नया चदि 12 अप्रैल को दिखाई देगा. 13 अप्रैल को ये दुनिया के अन्य हिस्सों में आसानी से दिखाई देगा. संभावना है कि चांद दिखने के बाद रमजान का पहला रोजा 13 अप्रैल को रखा जाएगा,

भारत में कब मनाया जाएगा रमजान?

रमजान की शुरूआत चांद निकलने पर निर्भर होती है इसलिए इसकी तारीख हर देश में अलग-अलग हो सकती है. Calendardate.com के अनुसार, इस साल रमजान 12 अप्रैल, सोमवार की शाम से शुरू होगा और मंगलवार, 11 मई को खत्म होगा.. इसके बाद 13 मई को ईद उल फित्र मनाई जाएगी.

रमजान को पवित्र क्यों माना जाता है?

मुसलमानों के लिए, रमजान वह महीना है जिसमें 1,400 साल से पहले पैगंबर मुहम्मद के सामने इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरान की पहली आयत का अवतरण हुआ था. इस पूरे महीने मुसलमान फज्र की नमाज के साथ रोजे की शुरूआत करते हैं और सूर्यास्त की नमाज के साथ रोजा खोलते हैं.

नमाज, दान, आस्था, मक्का की हज यात्रा करने के साथ रोजा रखने को भी इस्लाम में पाचवां स्तंभ माना जाता है. कई मुस्लिम देशों में रमजान के दौरान काम के घंटों में कटौती कर दी जाती है. वहीं कई जगहों पर रोजे के दौरान रेस्टोरेंट बंद कर दिए जाते हैं. रमजान के पवित्र महीने में लोग एक-दूसरे को ‘रमजान मुबारक’ या ‘रमजान करीम’ कह कर अभिवादन करते हैं और एक-दूसरे के लिए यह महीना अच्छा गुजरने की कामना करते हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top